बुलंद हौसले से सबकुछ है मुमकिन, 84 साल के बुजुर्ग ने दी कोरोना को मात

ये दौर काफ़ी भयावह है, कोरोना महामारी से सभी लोग परेशान हैं और कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इस स्थिति का डट कर सामना कर रहे हैं. आज के आर्टिकल में हम बात कर रहें हैं 84 साल के कोरोना योद्धा की, जिनका नाम है नंद राजानी, हाल ही में उन्होंने कोरोना को मात दी है. एक अख़बार से बात करते हुए उन्होंने बताया कि उनका पूरा परिवार 2-3 दिन के अंदर कोरोना की चपेट में आ गया था. अप्रैल के महीने में उनके बेटे भूषण, उनकी बहू और उनका पोता कोरोना से संक्रमित हो गए थे. कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट आने के बाद वे थोड़े घबराए ज़रूर थे, पर उन्होंने हिम्मत नहीं हारी, और उस पर जीत हासिल की.

ImageSource

नंद राजानी के अनुसार, उन्होंने सरकार व WHO द्वारा जारी की गई कोविड गाइडलाइन का अच्छी तरह से पालन किया. यहीं नहीं कोरोना होने के बावजूद में वे घर में जैसे तैसे खाना बनाते और खाते थे, और हर रोज सुबह – शाम सैर व व्यायाम करते थे. घर में जिन जिन को कोरोना हुआ था उन सभी के लक्षण अलग-अलग थे, जैसे
पत्नी को कंजक्टिवाइटिस की शिकायत हुई, बेटे को 1-2 दिन बुखार रहा, फिर वह कुछ समय बाद ठीक होने लगा.

इतनी परेशानी के होने के बाद भी उनके बेटे ने कभी हार नहीं मानी, और अपनी ऑनलाइन क्लास जारी रखी. जब भी उन्होंने अपने बेटे से तबियत के बारे में पूछा, तो उसने यही जवाब दिया कि, ‘अब मैं बेहतर हूँ’.

नंद राजानी के बेटे भूषण ने बताया, कि एक डॉक्टर से वे नियमित रूप से टेली कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सलाह मशवरा करते रहते थे. यहां पर उन्होंने एक जानकारी भी साझा की, कि दिल्ली सरकार चाह रही थी कि वे अस्पताल में भर्ती हो जाएं लेकिन उन्होंने घर में ही क्वारंटीन रहने की इच्छा जताई और आज वे घर में रहकर ही ठीक हो गए. उन्होंने ये भी कहा, कि इस तरह के माहौल में घर में रहना ही सुरक्षित है. उनके अनुसार, खुद पर विश्वास रखें, ऐसा करने से हम जल्द स्वस्थ हो सकते हैं.