काशी कॉरिडोर के उद्घाटन पर प्रधानमंत्री ने कहा, काशी में है केवल डमरू वाले की सरकार

आज काशी अद्भुत लग रही है. भगवान भोलेनाथ के नगर को स्वर्ग की तरह सजाया गया है. काशी में बाबा विश्वनाथ के दरबार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो संकल्प लिया था, आज वो पूरा हुआ है. पीएम मोदी आज काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का लोकार्पण करने उत्तर प्रदेश की प्राचीन नगरी और अपने संसदीय क्षेत्र बनारस पहुँचे हैं. काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का हर एक हिस्सा सजधजकर पूरी तरह तैयार है.

इस बेहद खास कार्यक्रम के लिए काशी विश्वनाथ कॉरिडोर ही नहीं, बल्कि पूरे बनारस में विशेष इंतजाम किए गए हैं. पीएम मोदी केआने से पहले ही काशी शिव के रंग में रंगी नजर आई. इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्रीधर्मेंद्र प्रधान, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह भी काशी पहुँच गए ये. योगी आदित्यनाथ और जेपी नड्डा ने अपने परिवार सहितकाशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा अर्चना भी की.

पीएम मोदी  ने काशी पहुँचकर सबसे पहले बाबा विश्वनाथ के दर्शन पूजन किए. और काशी विश्वनाथ कोरिडोर बनाने वाले सभीकामगारों के ऊपर अपने हाथों से पुष्प वर्षा की. इस दौरान बड़े बड़े संतमहात्माओं की उपस्थिति में पीएम मोदी ने अपने सम्बोधन मेंकहा, कियहां अगर औरंगजेब आता है तो शिवाजी भी उठ खड़े होते हैं. अगर कोई सालार मसूद इधर बढ़ता है तो राजा सुहेलदेव जैसेवीर योद्धा उसे हमारी एकता की ताकत का अहसास करा देते हैं. और अंग्रेजों के दौर में भी, हेस्टिंग का क्या हश्र काशी के लोगों ने कियाथा, ये तो काशी के लोग जानते ही हैं.’

विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन करते हुए PM मोदी ने कहा, हमारे कारीगर, हमारे सिविल इंजीनयरिंग से जुड़े लोग, प्रशासन के लोग वोपरिवार जिनके यहां घर थे सभी का मैं अभिनंदन करता हूं. इन सबके साथ यूपी सरकार, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का भीअभिनंदन करता हूं, जिन्होंने काशी विश्वनाथ धाम परियोजना को पूरा करने के लिए दिनरात एक कर दिया

विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन करते हुए PM मोदी ने कहा, पहले यहां जो मंदिर क्षेत्र केवल तीन हजार वर्ग फीट में था, वो अब करीब 5 लाख वर्ग फीट का हो गया है. अब मंदिर और मंदिर परिसर में 50 से 75 हजार श्रद्धालु सकते हैं. यानि पहले माँ गंगा का दर्शनस्नानऔर वहाँ से सीधे विश्वनाथ धाम

उन्होंने ये भी कहा, कि काशी तो काशी है! काशी तो अविनाशी हैकाशी में एक ही सरकार है, जिनके हाथों में डमरू है, उनकी सरकार है. जहां गंगा अपनी धारा बदलकर बहती हों, उस काशी को भला कौन रोक सकता है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोलेआप यहां जब आएंगे तो केवल आस्था के दर्शन नहीं करेंगे. आपको यहां अपने अतीत के गौरव का एहसासभी होगा. कैसे प्राचीनता और नवीनता एक साथ सजीव हो रही हैं, कैसे पुरातन की प्रेरणाएं भविष्य को दिशा दे रही हैं. इसके साक्षातदर्शन विश्वनाथ धाम परिसर में हम कर रहे हैं