राम मंदिर के शिलान्यास में लगने वालीं शिलाओं के हैं विशेष नाम

अयोध्या में राम जन्मभूमि के लिए भूमि पूजन की तैयारियां लगभग पूरी होने वालीं हैं. सरकार द्वारा अयोध्या शहर को सजाने का काम भी चल रहा है. शिलान्यास के इस कार्यक्रम की एक एक बात विशेष है. जैसे पूजा का कार्यक्रम 3 अगस्त से ही शुरू हो जाएगा, और 5 अगस्त तक चलता रहेगा. इसके लिए काशी से विद्वान ज्योतिषाचार्यों को बुलाया गया है. मुहूर्त भी बहुत शुभ होगा और शिलान्यास में जिन पत्थरों का उपयोग होगा वो भी बहुत विशेष होंगे.जानकारी के अनुसार मंदिर के गर्भगृह में चांदी की 5 शिलाओं को स्थापित किया जाएगा. और इन पाँचों शिलाओं का वजन भी 40 किलोग्राम होगा. सिर्फ इतना ही नहीं इन शिलाओं के नाम भी बहुत अलग हैं. नंदा, भद्रा, जया, रिक्ता और पूर्णा नाम की ये शिलाएं पूरे वैदिक विधि विधान के अनुसार स्थापित की जाएँगी.

राम मंदिर निर्माण के पत्थरों को तराशे जाने का काम तो सालों से ही अयोध्या में चल रहा है, और इसके लिए विशेष पत्थर लाये गए हैं, पत्थरों की ये शिलाएं राजस्थान से आतीं हैं, फिर उनकी कटाई का काम होता है, उसके बाद उन्हें तराशकर आकार दिया जाता है, मंदिर के निर्माण में इन्हीं विशेष पत्थरों का इस्तेमाल किया जाएगा. शिलान्यास के बाद मंदिर के निर्माण का कार्य जल्दी जल्दी होगा, और लगातार चलता रहेगा, जैसे जैसे मंदिर बनता जाएगा, वैसे ही अयोध्या शहर को भी विकसित किया जाएगा. मंदिर का कार्य पूरा होने के बाद हर वर्ष बड़ी संख्या में देश विदेश से श्रद्धालु अयोध्या में आयंगे, और इस बात का पूरी तरह ख्याल रखा जा रहा है कि, भक्तों को किसी भी तरह की परेशानी न हो. और ज्यादा से ज्यादा श्रद्धालुओं के लिए अयोध्या में रुकने की व्यवस्था हो.