श्रीराम मंदिर बनाएगा ये परिवार, 15 पीढ़ियों से अब तक 131 मंदिर बना चुका है

अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर के लिए भूमि पूजन की तारीख तय होते ही वहां गतिविधियाँ तेजी से बढ़ गईं हैं. इस राम मंदिर की प्रतीक्षा कई सालों नहीं सदियों से थी, और अब वो शुभ घड़ी आ गई है. लेकिन गुजरात के अहमदाबाद का एक और परिवार था जो इस मंदिर की बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहा था, और वो है आने वाले समय में इस राम मंदिर का निर्माण करने वाला सोमपुरा परिवार. इस परिवार के ज़्यादातर सदस्य आर्किटेक्ट हैं, और मंदिरों के डिजाईन बनाने के लिए देश विदेश में काफी प्रसिद्ध हैं.

image source

अपनी पिछली 15 पीढ़ियों से ये परिवार यही काम कर रहा है, और अब तक लगभग 131 मंदिरों के डिजाईन तैयार कर चुका है. इस राम मंदिर के डिजाईन पर अब से लगभग 30 साल पहले ही सोमपुरा समूह के चंद्रकांत सोमपुरा ने काम करना शुरू कर दिया था. और अब उनके दोनों बेटे निखिल सोमपुरा और आशीष सोमपुरा इस परम्परा को आगे बढ़ा रहे हैं. और अब उनकी तीसरी पीढ़ी भी यही कर रही है.

image source

गुजरात के प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण का काम भी इसी परिवार द्वारा किया गया था, और इसका डिजाईन चंद्रकांत सोमपुरा के पिता, प्रभाशंकर सोमपुरा ने तैयार किया था.

image source

आर्किटेक्ट पर आधारित 14 किताबें भी प्रभाशंकर सोमपुरा ने लिखीं हैं, और भारत सरकार ने उन्हें पदमश्री से सम्मानित किया है. नागर शैली में मंदिर निर्माण करना इस परिवार की विशेष योग्यता है. और उन्हें वास्तुकला ये गुण अपनी पिछली पीढ़ियों से मिला है.

1989 में जब राम मंदिर के लिए आन्दोलन तेज़ी से चल रहा था, उसी दौरान विश्व हिन्दू परिषद् ने चंद्रकांत सोमपुरा से मंदिर के डिजाईन के लिए संपर्क किया था, और उसी समय उन्होंने इस पर काम करना शुरू कर दिया था.