वैष्णो देवी की यात्रा है लगातार जारी, जयमाता दी बोलते हुए पूरे जोश से भक्त कर रहे हैं दर्शन

पिछले कुछ महीनों से पूरी दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से काफी परेशान है. भारत में भी सरकार ने बहुत सारे सुरक्षा निर्देश जारी किये हैं. केवल इंसान ही नहीं भगवान के मंदिर भी भक्तों के बिना सूने हो गए थे. लेकिन अब धीरे धीरे कुछ कड़े दिशा निर्देशों के अनुसार भारत के प्रमुख मंदिरों को भक्तों के दर्शनों हेतु खोला जा रहा है. अभी एक महीने पहले ही केदारनाथ यात्रा शुरू हुई तो अब केरल का प्रसिद्ध पद्मनाभ स्वामी मंदिर भी दर्शनों के लिए खोल दिया गया है.

ImageSource

कोरोना महामारी के चलते पांच महीने बंद रहने के बाद इसी महीने 16 अगस्त यानि रविवार से वैष्णो देवी की यात्रा भी शुरू हो गई है. और धीरे धीरे सरकार भक्तों की संख्या भी बढ़ाती जा रही है. अभी श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने प्रतिदिन 2000 श्रद्धालुओं को वैष्णो देवी के दर्शन की अनुमति दी है. इनमें जम्मू-कश्मीर के 1900 और अन्य राज्यों के 100 श्रद्धालु पर्तिदिन यात्रा कर सकते हैं.

लगभग 5200 फीट की ऊँचाई पर स्थित वैष्णो देवी माता के मंदिर में हर साल प्रतिदिन करीब 50 से 60 हज़ार भक्त दर्शन करते थे. लेकिन इस बार हालात थोड़े अलग हैं. सुरक्षा का ख्याल रखना भी बेहद ज़रूरी है. अब इस यात्रा के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है. और जो भक्त पहले से रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं, वही पहले दर्शन के लिए जा रहे हैं.

ImageSource

सभी भक्तों के लिए फोन में आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करना अनिवार्य है. इसके अलावा मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजेशन के नियम भी मानना ज़रूरी होंगे. 10 साल से कम उम्र के बच्चे, गर्भवती महिलायें, और 60 साल से ज्यादा वाली उम्र के लोगों को दर्शन की अनुमति नहीं मिलेगी. और जिन लोगों में कोविड 19 से जुड़े किसी भी प्रकार के लक्षण दिखाई देंगे, उन्हें भी दर्शनों की अनुमति नहीं होगी.

ख़ास बात ये है कि, भक्तों के उत्साह में किसी भी प्रकार की कोई कमी नहीं है, भक्त गाते बजाते, और मातारानी का जयकारा लगाते हुए पूरे जोश के साथ दर्शनों के लिए जा रहे हैं.