आज से शुरु हुआ है वैशाख मास, पूरे महीने में हैं बहुत शुभ योग

हिंदू पंचाग के मुताबिक, आज से वैशाख माह शुरू हो गया है और चैत्र मास समाप्त हो गया है. हिंदू कैलेंडर के अनुसार चैत्र मास के बाद वैशाख महीना शुरू होता है. यह महीना 28 अप्रैल से 26 मई तक रहेगा. कहा जाता है कि इस महीने में आप जो भी कार्य करते हैं उसमें सफलता अवश्य प्राप्त होगी.

ImageSource

वैशाख महीने में भगवान विष्णु, परशुराम और देवी मां की पूजा मुख्य रूप से की जाती है. ऋषि नारद ने कार्तिक और माघ के अलावा वैशाख माह को भी श्रेष्ठ बताया है. इस महीने में कई त्योहार आते हैं जैसे
1.अक्षय तृतीया,
2.बुद्ध जयंती,
3.मोहिनी एकादशी,
4.भौमावस्या, जैसे कई महत्वपूर्ण त्योहार हैं.

इस महीने शुभ कार्य के लिए हैं 3 योग
1.सर्वार्थसिद्धि योग,
29 अप्रैल, गुरुवार – सूर्योदय से दोपहर 2:30 तक
2 मई, रविवार – सुबह 9 से अगले दिन सूर्योदय तक
3 मई, सोमवार – सुबह 9 से अगले दिन सूर्योदय तक
12 मई, बुधवार – सुबह सूर्योदय से अगले दिन सूर्योदय तक
17 मई, सोमवार – दोपहर 1:30 से अगले दिन सूर्योदय तक
18 मई, मंगलवार – दोपहर 3 बजे से अगले दिन सूर्योदय तक
23 मई, रविवार – सूर्योदय से दोपहर 12:30 तक
26 मई, बुधवार – सूर्योदय से रात 1 बजे तक

2.अमृतसिद्धि योग,
23 मई, रविवार – सूर्योदय से दोपहर 12 बजे तक
26 मई, बुधवार – सूर्योदय से रात 1 बजे तक

3. रवियोग, कुल मिलाकर 12 शुभ मुहूर्त है.
2 मई, रविवार – सुबह 9 से अगले दिन सूर्योदय तक
15 मई, शनिवाार – सुबह 8:30 से अगले दिन सूर्योदय तक
16 मई, रविवार – सूर्योदय से सुबह 11:30 तक
17 मई, सोमवार – दोपहर 1:30 से अगले दिन सूर्योदय तक
18 मई, मंगलवार – सूर्योदय से दोपहर 3 बजे तक
22 मई, शनिवार – सूर्योदय से दोपहर 2 बजे तक
24 मई, सोमवार – सुबह 10 से अगले दिन सूर्योदय तक

 

आइए जानते हैं इस वैशाख महीने के व्रत और त्योहारों की तारीख-
7 मई, शुक्रवार : वरुथिनी एकादशी
8 मई, शनिवार : प्रदोष व्रत
11 मई, मंगलवार : सतुवाई अमावस्या, भौमावस्या
14 मई, शुक्रवार : अक्षय तृतीया, परशुराम जयंती
18 मई, मंगलवार : गंगा सप्तमी
19 मई, बुधवार : चित्रगुप्त प्राकट्योत्सव
20 मई, गुरुवार : जानकी जयंती
22 मई, शनिवार : मोहिनी एकादशी
25 मई, मंगलवार : नवतपा शुरू
26 मई, बुधवार : वैशाख पूर्णिमा, बुद्ध जयंती

एक समय खाना खाने से खत्म होते हैं पाप
महाभारत काल के अनुसार वैशाख महीने में जो भी व्यक्ति एक समय भोजन करता है उसके सभी पाप खत्म हो जाते हैं. वैसे भी इस समय मौसम गर्मी का चल रहा है ऐसे में खाना खाया भी नहीं जाता तो आप एक समय भोजन करने वाली प्रक्रिया में शामिल हो सकते हैं.देखा जाए तो सेहत के लिहाज से यह फायदेमंद है.

कम खाना या कहें जितनी ज़रूरत है उसके हिसाब से भोजन करने से आप आलस्य से दूर रहते हैं. इस कारण मन में बुरे विचार नहीं आते और सकारात्मक विचार से सभी चीजें अच्छी रहती हैं.

वैशाख महीने का महत्व
धार्मिक मान्यता है कि वैशाख महीने में पवित्र स्नान से श्रद्धालु पिछले सभी पापों से मुक्त हो जाता है. नारद जी कहते हैं कि ब्रह्मा जी ने वैशाख महीने को सबसे उत्तम बताया है. कहा जाता है कि इस महीने में श्री बांके बिहारी जी के चरण दर्शन होते हैं. तीर्थ स्थान और दान-दक्षिणा के लिए भी ये महीना उत्तम बताया गया है. यही नहीं त्रिदेव की कृपा पाने के लिए भक्तों को इस महीने ब्रह्मा, विष्णु और महेश पर जल चढ़ाना चाहिए.